गंगापुर सिटी की खबरों में परोसा जा रहा है झूठ !

आज सुबह एक नामी अखबार के गंगापुर सिटी वाले पैनल को देखा और देख कर समझ आया की ये अखबार हम लोगो को सिर्फ झूठ ही दिखाता है |
एक नजर आप भी डालिए इस खबर पर |

gangapur city news

खबर परसों रात की है | अख़बार ने बिना कुछ जाने किसी एक व्यक्ति के कहने पर यह खबर छाप दी | सच्चाई का पता लगाने की कोशिश भी नहीं की | इसको देख कर तो यही लगता है की यह अखबार या तो झूटी खबर आम लोगों तक पहुचाता है या फिर कुछ भी खबर छापने के पैसे लेता है या फिर इनके रिपोर्टर आलसी हैं जो खबर की सच्चाई जाने बिना ही कुछ भी छाप देते हैं |
अब आते हैं इस बात पर की इस खबर को झूठा क्यों बोला जा रहा है, तो गंगापुरसिटी पोर्टल आपको बताना चाहता है की जिस समय की ये घटना है उस समय पोर्टल के कुछ अंडरकवर एजेंट्स वहीं थे | और जैसा की न्यूज़ में लिखा है ऐसा कुछ भी नहीं हुआ था, उस महिला को किसी ने हाथ भी नहीं लगाया | और रही बात उस महिला के पति की तो वो शराब के नशे में था, उसने इतनी पी रखी थी की उस से अपने पैरों पर खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था |
वो कार्यक्रम में आये सभी सज्जनों से गाली – गलोंच और धक्का – मुक्की कर रहा था | जब कुछ सज्जनों ने उस शराबी को समझाने की कोशिश की तो वो शराबी उनसेे भिड गया, उनसे गाली – गलोंच और मार पीट करने लगा | कार्यक्रम शांति पूर्ण संपन्न होने ही वाला था लेकिन उसमे भंग होते देख सभी ने शराबी को कार्यक्रम स्थल से बाहर निकला | वो शराबी अपनी बेइज्जती होते देख गुस्से में कार्यक्रम स्थल के बाहर सड़क पर आते जाते लोगों से भिड गया |
सड़क पर आते जाते कुछ लोग ऐसे भी थे वो उस शराबी को जानते थे उन युवकों ने शराबी को समझाने की बहुत कोशिश की लेकिन जब वो शराबी नहीं माना और उल्टा उन युवकों पर ही टूट पड़ा तब उन युवकों को भी अपने बचाव में हाथ उठाना पड़ा | इसी बीच उस शराबी की पत्नी जिसे कि दलित वर्ग से है ऐसा बताया जा रहा है वो अपने पति को बचाने आई तो भीड़ ने धक्कामुक्की से बचाने के उद्देश्य से उस महिला को एक तरफ कर दिया पर जैसा की अखबार में लिखा उस महिला से छेड़ छाड़ की गयी परन्तु किसी ने भी उस महिला से छेड़-छाड़ नहीं की |
इस बात को सिर्फ पोर्टल के एजेंट्स ने ही नहीं उस कार्यक्रम स्थल पर मौजूद लगभग 400-500 लोगों ने देखा की गलती किसकी है और एक तरफ ये अखबार वाले हैं जो कुछ भी छाप रहे हैं |
जिन लोगों पर उस शराबी ने झूठा आरोप लगाया है, उन लोगों को तो इस बारे के कुछ पता भी नहीं था | वो शराबी भी इतना गिरा हुआ है की अपनी पुरानी रंजिश निकालने के लिए उसने अपनी पत्नी के नाम से मुकदमा दायर करने का कदम उठाया है जो की दलित वर्ग से है, और वो शराबी अपनी पत्नी के दलित होने का फायदा उठा रहा है, इस ही लिए तो अख़बार में साफ़ साफ़ उस महिला का दलित नाम उजागर किया गया है नहीं तो कोई भी महिला वो किसी भी धर्म या जाती की हो, शादी के बाद पति का धर्म और जाती ही उसकी होती है (अनुसार हिन्दू मैरिज एक्ट १९५५) |
शर्म आनी चाहिए उस शराबी को और इस झूठी ख़बर छापने वालो को भी…
Pre-sale Questions
%d bloggers like this: