गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में चित्रकार किंग महेश कुमार नाम दर्ज |

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में चित्रकार किंग महेश कुमार नाम दर्ज |

बीओ गोवर्धन। भारतीय रचनात्मक कृतियों को हर क्षण अंगुलियों से प्राकृतिक कला उखारने की ललक और कुछ कर गुजरने का जज्बा रखने वाले चित्रकार किंग महेश कुमार ने बड़ी उपलब्धि हांसिल कर ब्रज का नाम रोशन किया है। दिल्ली के लाल किले पर 30 जून को हुए मिशन ऑफ यूनिटी का आयोजन में देश के विभिन्न जगहों से आये पांच हजार चित्रकारों को सामिल किया गया। जिसमें राधाकुंड के गॉव बसौंती में जन्मा महेश कुमार चित्रकार किंग भी शामिल थे। उन्होंने चित्रकारी में यूनिटी के साथ मिलकर वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया, उन्हें मेडल और सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया गया। साथ ही उनका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड में दर्ज हो गया।

महेश कुमार बड़ी उपलब्धि हांसिल कर दिल्ली ने अवार्ड और पुस्कार को लेकर अपने गांव लौटे तो ग्रामीणों ने फूल माला,पटका उड़ाकर एवं स्मृति चिन्ह भेंट कर भव्य स्वागत किया। गांव बसौंती के मध्यम वर्ग में जन्मे महेश कुमार ने सन् 2000 में कला कृतियों को उखारने की ललक लिए 12 वर्ष की उम्र में विश्व प्रसिद्ध चित्रकार रहे मकबूल फिदा हुसैन की चित्रकलाओं को देख महेश कुमार ने हाथों में पेंसिल थामी। उन्हें मथुरा के.आर डिग्री काॅलेज के पूर्व प्रोफिसर रहे कमल कपूर एंव हरिओम भारद्वाज ने महेश कुमार को पेंटिंग के हर विषय में ज्ञान दिया।

महेश कुमार ने बडी महेनत और लगन के साथ पेर्टिंग बनाने लगे विभिन्न बेहतरीन पेटिंगों से देश-विदेश में सम्मान मिला।   

चित्रकार किंग महेश कुमार ने बताया कि कला मानव मन की अभिप्राय, वास्तुकला, मूर्तिकला और चित्रकला से होता है। कलाकार और हस्तशिल्पी अपनी रचनात्मक अंगुलियों से वही दिखाात है जो वास्तव में सच होता है। जिसकी सुन्दरता दुनिया के विभिन्न चित्रकारों ने अपनी कला से प्रकट की है। प्रकृति और कला का नाता बहुत ही प्राचीन है इनका अस्तित्व ही मनुष्य को जीवंत बनायें रखे हैं।

About Gangapur City Portal

hi i am gangapur city portal admin