रक्तदान कर बचाई चौदह बर्षीय बालिका रुचि की जान।

रक्तदान कर बचाई चौदह बर्षीय बालिका रुचि की जान।

चिलचिलाती धूप में अस्पताल पहुंचे युवक ने रक्तदान कर बचाई चौदह बर्षीय बालिका रुचि की जान। जी हां व्यक्ति के मन में अगर आज इसांनियत की भावना हो तो इंसान इसांनियत की भावना को सलामत रखने के लिये कुछ भी करने को तैयार हो जाता है।

इसी का एक जीता जागता उदाहरण है कि एक युवक ने भरी दोपहरी चिलचिलाती पड़ती कडा़के की धूप में अपने घर से निकल कर जिला करौली अस्पताल में रक्त के अभाव में बेसहारा पडी़ रक्त की जरुरत मंद चौदह बर्षीय एक बालिका रुचि को अपना रक्त देकर उसकी जान को बचाया।

इस तरह युवक पुषेन्द्र सिंह गारुवाल ने रक्तदान का नेक कार्य कर बालिका रुचि के देखभाल कर रहे परिवारीय जनों में खुशी की लहर को ही नहीं दौडाया बल्कि रक्तदान से कराने वाली जीवन ज्योति फाऊडेंशन सदस्यों की टीम का मनोबल बढाया। जानकारी के मुताबिक इसकी जानकारी युवक को सोशल मीड़िया के माध्यम से मिलना बताया जाता है।

आखिर कौन है रक्तदान करने वाला युवक पुषेन्द्र सिंह गारुवाल

मिली जानकारी के अनुसार आपको हम बता दें कि रक्तदान कर चौदह बर्षीय बालिका रुचि की जान बचाने वाला युवक एक कांग्रेस सेवादल कमेटी का सदस्य होकर कमेटी में जिला संगठन मंञी ही नहीं बल्कि रक्तदान से जुडी़ संस्था जीवनज्योति फाऊंडेशन का सदस्य भी है।

साथ ही आपको हम बता दें इस युवक का नाम पुषेन्द्रसिंह गारुवाल है और हिडौन के गांव महू करई जिला करौली राजस्थान का मूल निवासी होकर शिछा विभाग से जुड़े रिटायर्ड़ प्राचार्य मोहनलाल यादव का सौपौञ है।

जो अपने चार भाई बहिनों में प्रथम स्थान का होकर पिता विजय सिंह जाटव की संतान है।

About Amit Kumar Underiya