सालों बाद भी पक्के डामरीकरण में नहीं बदली नरेगा की सड़क |

सालों बाद भी पक्के डामरीकरण में नहीं बदली नरेगा की सड़क |

सालों बाद भी पक्के डामरीकरण में नहीं बदली नरेगा की सड़क 

राजस्थान धौलपुर जिले के रजौराखुर्द कस्बा ग्राम पंचायत मुख्यालय अन्तर्गत बनी जाटव बस्ती टू नगला रौहाई नरेगा सड़क आज बर्षों बीत जाने के बाबजूद भी पक्के डा़मरीकरण में नहीं बदल पाई है।

सड़क पक्के डा़मरीकरण में नहीं बदल पाने के कारण जगह- जगह से छतिग्रस्त होकर आज अपना पूरी तरह से अस्तित्व खो चुकी है।

बता दें सड़क के पक्के निर्माण कार्य डामरीकरण के लिये बर्ष जनवरी दो हजार चौदह में मिसिंग लिंक सड़क योजना के तहत संम्बधित विभाग जिला पीडब्ल्यूडी़ द्वारा पूरे नब्बे लाख रुपये की एक स्टेट्स रिर्पोट जारी कर बजट आने पर निर्माण कार्य शुरु कराये जाने की बात कही थी।

बर्ष- 2008-09 में मनरेगा के तहत हुआ था सड़क का कच्चा निर्माण कार्य

कस्बे की बस्ती निवासी अमित कुमार जाटव से प्राप्त मिली जानकारी के अनुसार इस नरेगा सड़क का कच्चा निर्माण कार्य बर्ष दो हजार आठ नौ में एक मनरेगा के तहत हुआ था।

पोर्टल पर दर्ज शिकायत के चलते ग्राम पंचायत प्रशासन करा चुका है सड़क पर जमे अतिक्रमण की साफ-सफाई

जी हां राजस्थान सम्पर्क पोर्टल पर दर्ज एक अतिक्रमण की शिकायत के चलते रजौराखुर्द ग्राम पंचायत प्रशासन एक आदेश पर तहसील प्रशासन के साथ मिलकर सड़क पर लोगों द्वारा जमाये गये अतिक्रमण की साफ- सफाई कराकर इस सड़क को अतिक्रमण मुक्त करा चुका है।

लेकिन सड़क का आज पक्का डामरीकरण नहीं हो पाने के कारण यह सडक उगे घास कटीली पेड़- पौधे अन्य झाड़ियों से घिरकर आज खराब हालात में पड़ी है।

फोटो- नरेगा सडक पर फैली गंदगी के साथ खडी़ हरी घास

About Amit Kumar Underiya