महु-गुलावली पेट्रौल पम्प पर पेट्रौल- डीजल तो मिल रहा पर नहीं मिल रही पेट्रौल- डीजल की रसीद।

महु-गुलावली पेट्रौल पम्प पर पेट्रौल- डीजल तो मिल रहा पर नहीं मिल रही पेट्रौल- डीजल की रसीद।

महु-गुलावली पेट्रौल पम्प पर पेट्रौल- डीजल तो मिल रहा पर नहीं मिल रही पेट्रौल- डीजल की रसीद।

जी हां यह बात आज पूरी तरह बिल्कुल सही हो रही है।

राजस्थान राज्य के धौलपुर जिले स्थित बने सैंपऊ- बसेडी- ममौधन सड़क मार्ग पर गांव महु गुलावली पर रोड़ किनारे संचालित एक पेट्रौल पम्प पर आज वाहन चालक उपभोक्ताओं के लिये वाहनों में डा़ला जाने वाला ईधन के रुप में पेट्रौल-डीजल तो मिल रहा है लेकिन उसकी रसीद नहीं मिल रही है।

बात की सच्चाई का पता हमारे संवाददाता अमित कुमार उन्देरिया रजौराखुर्द द्वारा लगाने पर सही मिली। 

रसीद नहीं मिलने को लेकर पम्प पर लगे कर्मचारियों की मानें तो आज इस पम्प मालिक के पास मशीन से ईधन की पर्ची निकालने के लिये पम्प मशीन में कागज का रोल नहीं है। और हाथ की रसीद बनाने के लिये पम्प पर कैश मेमों यानि रसीद का कट्टा मानें जाने वाला बिल बुक नहीं है।

वहीं जिले छेञ में और भी ऐसे कई पम्प संचालित हैं जो आज ईधन के रुप में वाहन चालकों को वाहन उपयोग के लिये मिलने वाला पेट्रौल-डीजल तो दे रहे हैं लेकिन उसकी रसीद बनाने में हिच-किचाहट कर बहाने बाजी बनाते हैं।

इस तरह पेट्रौल- डीजल पम्प मशीनों पर यानि फिलिंग स्टेशनों पर वाहन चालकों को ईधन की रसीद नहीं मिलना आज संचालित पम्प पर संदेह के कई सवाल खड़े करता है।

जिला धौलपुर से अमित कुमार उन्देरिया रजौराखुर्द की एक रिर्पोट।

About Amit Kumar Underiya

Leave a Reply