अधीछकों की कमी मार झेल रहे धौलपुर जिले के छाञावास।

अधीछकों की कमी मार झेल रहे धौलपुर जिले के छाञावास।

अधीछकों की कमी मार झेल रहे धौलपुर जिले के छाञावास।

जी हां राजस्थान के धौलपुर जिले में आज छाञावास छाञावास अधीछकों की कमी की मार झेल रहे हैं।

कमी के चलते आज जिले का एक- एक छाञावास का अधीछक जिले के तीन चार छाञावासों की कमांन संभाल कर अपनी ड्यूटी पूरी कर रहा है।उदाहरण के तौर पर अगर जिले में छाञावासों में अधीछक की पोस्ट पर अपनी ड्यूटी कर रहे छाञावास अधीछक ग्यानेन्द्र सिंह की मानें तो वह आज जिले के अंदर संचालित चार छाञावास मनियां अम्बेडकर, राजाखेडा़ अम्बेड़कर, सैंपऊ अम्बेड़कर के साथ सैंपऊ का देवनारायंण छाञावांस है जिनके ऊपर आज वे लगकर अधीछक की नौकरी कर रहे हैं।

ऐसा एक छाञावास अधीछक ग्यानेद्र सिंह का हाल ही नहीं है बल्कि और भी कई अधीछक बताये जा रहे हैं जो एक से अधिक छाञावासों के ऊपर अधीछक की पोस्ट पर लगकर अपनी राज्य की सरकारी सेवा कर रहे हैं।

हालांकि मिली जानकारी के अनुसार छाञावासों में इस वक्त नयी छाञों की प्रवेश भर्ती प्रक्रिया चल रही है।

साथ ही बता दें मनियां अम्बेड़कर छाञावास में चालीस छाञ सीट और सैंपऊ पचास के साथ राजाखेडा़ में पचास छाञ संख्या की सीट हैं।

जिनमें दो रसौईया और एक चौकीदार लगा है।

वहीं जिले के समाज कल्यांणअधिकारी से इस बारे में बात नहीं हो पाने के कारण इसकी वजह नहीं बता सकते।

पर फिर भी एक अधीछक से मिली जानकारी के मुताबिक बता दें कि यह अधीछकों की कमी जुलाई माह में पूरी तरह से दूर होने की संभावना है।

About Amit Kumar Underiya

Leave a Reply