देसी किसान बुग्गा जुगाड़ से स्कूल जा रहे निजी स्कूल के बच्चे |

देसी किसान बुग्गा जुगाड़ से स्कूल जा रहे निजी स्कूल के बच्चे |

देसी किसान बुग्गा जुगाड़ से स्कूल जा रहे निजी स्कूल के बच्चे

राजस्थान के धौलपुर जिले अन्तर्गत बसे रजौराखुर्द कस्बे में और कस्बे के आसपास संचालित निजी कई स्कूल मालिक आज अपने आसपास के गांवों से स्कूल में पढ़ने वाले को बच्चों विभागीय अनुमति वाली बाल बाहिनियों बस आदि से लाने की बजाय देसी किसान बुग्गा के नाम से यानि जुगाड़ से बच्चों को स्कूल से घर और घर से स्कूल तक ला आ जा रहे हैं।
ऐसा नहीं है कि देसी किसान बुग्गा यानि जुगाड़ से ही बच्चे स्कूल आ जा रहे हों बल्कि खटारा टैम्पों जैसे अन्य साधनों में भी बच्चे आज स्कूल से घर और घर से स्कूल तक आ जा रहे हैं।
ऐसे निजी स्कूल संचालक पर आज नां सम्बधित परिवहन विभाग की कोई खास नजर है और नां ही स्कूल विधालय से संम्बधित शिछा विभाग की।
नतीजा आज ये स्कूल संचालक बिना विभागीय खौफ के खटारा टैम्पों और देसी किसान बुग्गा के नाम से जानी जाने वाली जुगाडों में बच्चों को स्कूल से घर और घर से स्कूल तक ला रहे हैं।

जुगाड़ों के संचालन पर राज्य में लग चुका है प्रतिबंध

अगर देखा जाये तो आज राज्य में सड़क मार्ग पर दौड़ती इन अवैध देसी किसान बुग्गा के नाम जुगाड़ के संचालन पर प्रतिबंध लग चुका है।
लेकिन फिर भी प्रतिबंध के बाबजूद भी छेञ में कई स्कूल संचालक आज इन देसी जुगाडों को अपने स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को आने लाने ले जाने में धड़ल्ले से ऐसे वाहनों का उपयोग कर रहे हैं।

भैंस बकरियों की तरह जुगाड़ में भरकर आते हैं स्कूली बच्चे

ये स्कूल संचालक जुगाडों में बच्चों को भैंस बकरियों की तरह भरकर घर से स्कूल तक लाते हैं और छुट्टी के बाद स्कूल से घर तक ले जाते है।
जहां तक बच्चों की संख्या ज्यादा होने कई बच्चे तो जुगाड़ में जगह नहीं होने की वजह से जुगाड़ों में पीठ पर अपना बस्ता लटकाये लटकते स्कूल का सफर करते हैं।

कैमरें में कैद की रजौराखुर्द कस्बे में संचालित एक निजी स्कूल के बच्चों से भरी जुगाड़

स्कूली बच्चों से भरी किसान बुग्गा जुगाड़ की ऐसी ही एक तस्वीर को हमारे रिर्पोटर अमित कुमार उन्देरिया रजौराखुर्द जिला धौलपुर ने अपने मोबाईल कैंमरे में धौलपुर जिले के सैंमरा सहरौली सड़क मार्ग से कैद किया है।
जुगाड़ में बच्चे भेंड़ भैंस बकरियों की तरह भरे खड़े होकर तो वहीं कुछ लटककर रोजाना की तरह जुगाड से स्कूल से छुट्टी के बाद अपने घर जाते दिख रहे हैं।

About Amit Kumar Underiya

Leave a Reply