अवैध शराब की बिक्री पर नहीं लग रहा विभागीय अंकुश । रजौराखुर्द ।

अवैध शराब की बिक्री पर नहीं लग रहा विभागीय अंकुश । रजौराखुर्द ।

रजौराखुर्द में बिक रही अवैध शराब की बिक्री पर नहीं लग रहा विभागीय अंकुश

जी हां आज राजस्थान प्रदेश के धौलपुर जिले स्थित बने रजौराखुर्द कस्बे में भारी तादात में बिक रही अवैध शराब की बिक्री पर आज विभागीय अंकुश लगता नजर नहीं आ रहा है।

नशे की लत का शिकार बन रही युवा पीढी।

धौलपुर जिले के रजौराखुर्द गांव में अवैध रुप जगह- जगह चोरी छिपे बिक रही शराब के नशे की लत का शिकार बड़े बुजुर्ग लोगों के साथ युवा पीढी बनती नजर आ रही है।

नेशनल हाईवे संख्या-123 किनारे बसा है रजौराखुर्द गांव

बता दें धौलपुर भरतपुर वाया ऊंचा नगला रुपवास नेशनल हाईवे संख्या एक सौ तेईस किनारे बसे रजौराखुर्द कस्बे गांव में जगह- जगह भारी तादात में बिक रही अवैध शराब की नशे का सबसे ज्यादा बुरा असर पिछड़े तबके जाति के लोगों पर आज पड़ता देखने को मिल रहा है।

शाम ढ़लते हो जाती शराब की बिक्री शुरु

कस्बे के अंदर बिक रही शराब की सबसे ज्यादा बिक्री शाम ढ़लते ही शुरु हो जाती

जो देर रात तक चलती है।

परचूने की दुकान से ज्यादा गांव में शराब बिक्री करने वालों की संख्या

अगर आज अंदरुनी नजरिये से देखा जाये तो गांव में परचूने की संचालित दुकानों से ज्यादा तो शराब बिक्री करने वालों शराब माफियाओं की संख्या बनी हुई है।

जो चन्द पैंसों की खातिर गांव में शराब बेचकर गांव का माहौल खराब कर रहे हैं।

विभाग की पहुंचते ही हो जाते सतर्क शराब माफिया।

गांव में आबकारी विभाग की गाडी़ पहुचते गांव में शराब बेचने वाले शराब माफिया एक दूसरे से फोन कनेक्ट करते हुये शराब छिपाकर पूरी तरह सतर्क हो जाते है।

ये शराब मांफिया विभाग की गाडी गांव में आती देखकर सतर्क ही नहीं होते बल्कि एक तरह से बिल्कुल बगुला भगत बन जाते हैं।

नहीं बन पाता घरों में शाम का खाना

गांव में बने कई घरों में इसी शराब के चलते बच्चों को शाम का खाना नहीं बनने से बच्चे बिना खाना खाये रात को भूंखे ही सो जाते है।

वजह घर के मुखिया का शराब पीकर शाम को घर बीबी बच्चों के साथ झगडा़ करना।

गांव में समूह महिलायें भी कर चुकी हैं शराब की शिकायत

गांव में बीते काफी समय से बिक रही अवैध शराब की शिकायत भी गांव के अंदर चल रहे समूह की महिलायें भी बीते समय करीब साल ढेड़ दो साल पहले रहे नजदीकी सैंपऊ थाना प्रभारी ओमेन्द्र सिंह और एसडीएम विनोद कुमार मींणा से मिलकर शराब बिक्री की शिकायत कर चुकी हैं।

ठोस कार्यवाही नहीं होने से होंसले बुलंद

जिले के रजौराखुर्द गांव में शराब की अवैध बिक्री करने वालों पर संम्बधित विभाग की कोई ठोस कार्यवाही नहीं होने से आज गांव में शराब की बिक्री करने वाले शराब माफियाओं के हौंसले आज बुलंद बने हुये हैं।

पानी से ज्यादा होती है शराब की पिवाई

अगर देखा जाये तो गांव में होने वाले ब्याह-शादी सीजन कार्यक्रमों में सबसे अनुसूचित जाति के लोगों के कार्यक्रमों में आने वाले बाराती बगैराह लोगों द्वारा पानी की पिवाई से ज्यादा गांव में बिक रही अवैध शराब की पिवाई होती है।

जिससे कई अतिथि लोग तो कार्यक्रमों में नशे में धुत होकर अपना नालियों में मुंह रगड़ते नजर आते हैं।

नजदीकी ठेका से होती है गांव में शराब की सप्लाई

खबर के चलते देखा जाये तो रजौराखुर्द में गांव में बिक रही अवैध शराब की सप्लाई गांव के नजदीकी बने शराब के ठेके से ठेका गाडी़ से खेप पहुंचवार की जाती है।

गांव के दबंग लोग ही गांव में कर रहे शराब की अवैध सप्लाई।

गुप्त सूञों की जानें तो गांव के अंदर बिक रही अवैध शराब की सप्लाई गांव के दबंग लोग ही नजदीकी ठेके से ठेका गाडी़ और बाईकों द्वारा खेप पहुंचवा कर रहे हैं।

About Amit Kumar Underiya

Leave a Reply