fbpx

बिना प्रदर्शन के दान धर्म की सार्थकता है – जैन आर्यिका

बिना प्रदर्शन के दान धर्म की सार्थकता है – जैन आर्यिका

बिना प्रदर्शन के दान धर्म की सार्थकता है – जैन आर्यिका

सवाई माधोपुर 21 अगस्त। दिगम्बर जनै अतिशय क्षेत्र चमत्कारजी, अहिंसा सर्किल, आलनपुर मे ं ससघ्ं ा वर्षायोग कर रही आचार्य निर्मल

सागरजी की शिष्या-गणिनी आर्यिका विशुद्धमति की संघस्थ आर्यिका विज्ञमति ने श्रावकों को प्रेरक प्रसंगों के माध्यम से सम्बोधित करते

हुए कहा कि व्यक्ति को अपनी शक्ति के अनुसार बिना अभिमान एवं प्रदर्शन के पवित्र मन से पूजा, दान, त्याग व तपस्या करनी चाहिए

तब ही दान-धर्म की सार्थकता है।

उन्होनं े निगं्रथ गरूु के उपदेश को मन मे ं उतारने, मायाचारी स े दूर रहने एवं धर्म मे ं प्रदर्शन नहीं करने के लिए लोगो ं को प्रेरित किया।

प्रवचनोपरांत सभी को मंगल आशीर्वाद प्रदान किया।

इस दौरान मंचासीन आर्यिका विदितमति के निदेशर्् ान मे ं प्रश्नमंच भी आयोजित किया गया। जिसमे ं सभी आयु वर्ग के लोगो ं ने उत्साह के

साथ भाग लिया और विजेताओं को पुरस्कृत किया गया।

वर्षायोग समिति के प्रवक्ता प्रवीण कुमार जैन ने बताया कि इस अवसर पर भारतीय संस्कृति व जैनागम के अनुसार आयोजित होने वाले

धार्मिक कार्यक्रमों की पत्रिका का विमोचन किया गया। वर्षायोग समिति के स्वागताध्यक्ष मोहनलाल कासलीवाल ने जिनेन्द्र भक्ति और

आस्था के रंग से सराबोर धार्मिक संस्कारों को ग्रहण करने वाले सभी सुनियोजित कार्यक्रमों को ऐतिहासिक व स्मरणीय बनाने का

समाजजनो ं स े आह्वान करते हुए लगन स े कार्य करने के लिए लोगो ं को प्रेरित किया।

जनै ने बताया कि विशुद्ध भक्त परिवार एवं विशुद्ध वर्धनी महिला मण्डल का 7वां राष्ट्रीय अधिवेशन रविवार 25 अगस्त को दो सत्रों मे ं

चमत्कारजी के वर्षायोग पांडाल मे ं आयोजित किया जावेगा। अधिवेशन मे ं देश के विभिन्न हिस्सों स े महिला, पुरूष भाग लेगे।ं

About Pankaj Sharma

Manager at Gangapur City Portal

Leave a Reply