fbpx

अभिनव सन्देश

अभिनव सन्देश

अभिनव सन्देश  आपां नहीं तो कुण, आज नहीं तो कद..?

(बुधवारीय अभिनव सन्देश)

कितना अजीब है न ? कि भारत का संविधान कहता है, शासन जनता का है, कि भारत की संसद ने 2005 में कहा कि अधिकारी अब सीधे जनता के प्रति जवाबदेह बनें मगर ऐसा हो नहीं पा रहा है. न शासन जनता का नजर अ रहा है और न ही ज्यादातर अधिकारियों का मूड जनता को जवाब देने का है. लोकतंत्र के नाम से देश में एक बड़ा तमाशा सा चल रहा है और इसी वजह से भारत देश सत्तर साल के तथाकथित स्वशासन के बाद भी विकसित देश नहीं बन पाया है.

विज्ञापनों में हमारे ही पैसे से हमको मूर्ख बनाकर विकास होने का भ्रम पैदा किया जा रहा है. जबकि हमारे गाँव-शहर में कुछ भी बदलता नजर नहीं आ रहा है. समस्या एक ही है, शासन को जनता सीधे नहीं संभाल रही है और राजनेताओं-अफसरों-दलालों के भरोसे इसे सूना छोड़ दिया है. या तो गुलामी की मानसिकता है या व्यवस्था का डर है कि हमारी रुचि अपने शासन को जानने में कम है और अपने ही मुनीमों की स्तुति –निंदा में ज्यादा है. छद्म अवतारों की इस लीला में हम केवल एक तमाशे के दर्शक बनकर रह गए हैं, उस तमाशे के, जो हमारे पैसे से खेला जा रहा है. अपना घर फूंक कर रोशनी का आनंद ले रहे हैं. इसकी हार-उसकी जीत में हम हार रहे हैं.

अब यह तमाशा और नहीं. अब हम इस तमाशे को रोकेंगे. अब हम राजनीति और चुने हुए राजाओं-रानियों के भरोसे देश को नहीं छोड़ेंगे. लेकिन हम कोई धरना नहीं देंगे, कोई प्रदर्शन नहीं करेंगे. हम एक मौन क्रान्ति करेंगे. एक एक नागरिक, एक सवाल पूछेगा, अपने शासन के बारे में. प्रेम से मगर अधिकार से. सूचना के अधिकार से. सकारात्मक भाव से. आप देखना कि एक बहुत बड़ा बदलाव आपके पवित्र हाथों से कागज के दम पर हो जायेगा. पक्का दावा है.

इस 25 जून से 24 दिसंबर तक सम्पूर्ण राजस्थान में हमारे मित्र अपने अपने जिले में लगभग 200 प्रश्न हर महीने पूछेंगे. एक मित्र किसी भी विभाग से एक सवाल पूछेगा. सवाल के लिए आवश्यक आवेदन हम उन्हें उपलब्ध करवाएंगे और साथ ही यह जानकारी भी देंगे कि इस सवाल का अर्थ क्या है और इसके जवाब को वे कैसे समझें. सभी प्रश्न विकास के मुद्दों से जुड़े होंगे. एक आवेदन पर तीस रूपये से लेकर सौ रूपये का खर्च आएगा. इतना सा रूपया खर्च करके आप किसी IAS या मंत्री से ज्यादा ताकतवर बन जायेंगे ! अब अधिकारी आपको जवाब जो देंगे. आपका खुद की जानकारी पर आधारित ज्ञान आपके आत्मविश्वास को बढ़ाएगा और आपकी रुचि चुने हुए या चयनित राजा रानियों में कम हो जाएगी. असली लोकतंत्र वही होगा.

असली लोकतंत्र के इस महान यज्ञ में आहुति देने के लिए आज से ही मन बना लें. सभी आवेदन हमारी वेबसाइट पर उपलब्ध होंगे. आप कोई भी आवेदन कर लें. हमें इस आवेदन और इसके जवाब के बारे में सूचित कर दें ताकि इस जानकारी को वेबसाइट पर आपके नाम से रख दिया जाये. आप असली लोकतंत्र के सेनानी के रूप में वहां नजर आयेंगे.

शुभकामनाएँ.
मां सरस्वती आपके ज्ञान में वृद्धि करे.

(डॉ.अशोक चौधरी, अभिनव राजस्थान अभियान )
(अभियान से सक्रियता से जुड़ने के लिए www.abhinavrajasthan.com पर नाम-नम्बर-पता दर्ज करें और इसके बारे में विस्तार से जानने के लिए www.abhinavrajasthan.org देख लें.)

About Gangapur City Portal

hi i am gangapur city portal admin

Leave a Reply