fbpx

अली 35 साल से श्रद्धालुओं को रिक्सा से करा रहे ब्रज परिक्रमा |

अली 35 साल से श्रद्धालुओं को रिक्सा से करा रहे ब्रज परिक्रमा  |

अली 35 साल से श्रद्धालुओं को रिक्सा से करा रहे ब्रज परिक्रमा

विओ गोवर्धन। गिरिराज जी की परिक्रमा हिंदुओं के लिए आस्था का प्रतीक मानी जाती है। लेकिन इस आस्था के सैलाब में धार्मिक सद्भाव भी शामिल है। मुस्लिम समाज से जुड़े लोग न सिर्फ गिरिराज जी की परिक्रमा करा रहे हैं बल्कि मंदिरों में रीति-रिवाज से भक्तों को दर्शन करा रहे हैं। वे इसे पुण्य का काम मानते हैं। गिरिराज जी की परिक्रमा 21 किलोमीटर की है जो लोग पैदल नहीं चलते हैं वे ईरिक्शा से गिरिराज  जी की परिक्रमा करते हैं। वहीं मथुरा-वृंदावन, और बरसाना तक ईरिक्सा से ब्रज परिक्रमा लगवाते हैं। शुक्रवार को परिक्रमा मार्ग में मिले मोहम्मद मुन्ना अली ने बताया कि उनकी उम्र करीब 55 वर्ष है और वे करीब 35 साल से रिक्शा चलाकर गिरिराज जी की परिक्रमा करते हैं। अब उनको शासन की योजना में ईरिक्शा मिला तो उससे परिक्रमा कराते  हैं। वे भक्तों को प्रमुख स्थानों के दर्शन व कुंड में आचमन कराते हैं। वहीं परिक्रमा कर रहे राम प्रकाश बघेल परिक्रमार्थी ने नगर बताया कि यह सामाजिक सद्भावना का प्रतीक है। इससे नफरत फैलाने वाले लोगों को संदेश लेने की आवश्यकता है।

Leave a Reply